What is plagiarism in Hindi

आज इस पोस्ट में हम आपको SEO के बहुत ही important factor के बारे में बताने वाले है. अगर आप एक Blogger है तो आपके लिए ये जानना बहुत ज़रूरी है के Plagiarism kya होता है. Plagiarism SEO का एक बहुत ही इम्पोर्टेन्ट सक्सेस फैक्टर है, इस लिए हमे इस्पे पूरा पूरा ध्यान देना चाहिए ताकि हम blogging में सुसस्स कर सके. तो आइये जानते है के plagiarism checking tools kya hota hai.

    Plagiarism Kya hota hai?

    Plagiarism SEO के बहुत ही इम्पोर्टेन्ट और पॉपुलर टर्म में से एक है. अगर कोई भी किसी दूसरे के किये हुए काम को अपना बना कर पेश करता है तो उसे plagiarism kahte hai.

    अगर आप किसी दूसरे के कंटेंट को कॉपी कर के, अपना बना कर publish करते है तो इसी को plagiarism kaha jata hai. अगर आप एक blogger है और आप अपनी website पे किसी दूसरे के कंटेंट को कॉपी कर के पब्लिश करते है तो ये Plagiarism kahlayega.

    Google ने Plagiarism को रोकने के लिए बहुत सरे उपदटेस लाये है ताकि कोई भी किसी दूसरे को कंटेंट को कॉपी कर के टॉप में रैंक न हो सके.

    आपने सुना होगा के हमें अपने website पे unique Content publish करना चाहिए, किसी के भी content को कॉपी नहीं करना चाहिए क्युकी Google कभी भी ऐसे website को रैंक नहीं करता है जो copied होते है. Google original content को पहचानता है, अगर कोई भी उस कंटेंट को कॉपी कर के पब्लिश करता है तो Google उस कॉपी किये गए कंटेंट को पहचान लेता है और ऐसे website को रैंक नहीं करता है. यहाँ तक के कभी कभी Google ऐसे वेबसाइट को penalty भी दे देता है.

    अगर आप चाहते है के अपने वेबसाइट पे original content पब्लिश करे तो आपको अपने वेबसाइट पे किसी भी कंटेंट को शेयर करने से पहले Plagiarism ज़रूर चेक कर लेना चाहिए. तो आइये देखते है के Plagiarism checker tool kya hai और हम इसका उसे कैसे करे.

    Note:

    1. Expert का कहना है की Content Copy कही से भी न कर। 

    2. कंटेंट लिखने के बाद चेक जरूर करे की कही कंटेंट में plagiarism में तो नहीं ह। 

    3. Plagiarised content पर Google Bots की खास नज़र रहती ह। 

    Also Read: Domain Authority Kya Hai

    इन पॉइंट्स को पढ़कर अब आप समझ गए होंगे की कंटेंट अच्छा और उसेफुल लिखे कही से कॉपी करने का कोई फयदा नहीं होता है इसलिए google के algorithms बनाये गए है जो चेक करते है कंटेंट की कही कपैड तो नहीं है और इन्ही सभी बातो को मेजर करके google 200 ranking factors ये समझता है की इस तरह की साइट्स को रैंकिंग प्रोवाइड करनी है या नहीं एक बात का जरूर ध्यान रखिये चाहे आप खुद कंटेंट लिखे या किसी कंटेंट राइटर से कंटेंट लिखवाये जिस टॉपिक के बारे में कंटेंट लिख रहे उसे पूरा एक्सप्लेन करे !

    Plagiarism Checker Tool क्या है?

    Plagiarism checker tool ऐसे टूल होते है जिनकी हेल्प से हम अपनी वेबसाइट पे पब्लिश किये गए कंटेंट को चेक कर सकते है. आप इन टूल्स की हेल्प से पता लगा सकते है के आपका कंटेंट ओरिजिनल है या कपैड. आज कल बहुत सरे Plagiarism checker tool ऑनलाइन available है जिनकी हेल्प से आप अपने कंटेंट का पता लगा सकते है के वो ओरिजिनल है या कपैड.

    अगर आप चाहते है के आपके कंटेंट किसी भी वेबसाइट पे पहले से पब्लिश किये हुए न हो और वो plagiarism में ना आये तो आप Plagiarism checker tool से अपने कंटेंट को चेक कर के पब्लिश करे और जो कंटेंट plagiarism में आये उसे रेप्लस करे.

    Note:

    1. कोई भी टूल 100% unique content शो नहीं करता है different tools पर अलग अलग कंटेंट का पैरामीटर्स शो करता ह। 

    2. Free or Paid टूल पॉसिबल हो तो paid टूल्स ही उसे कीजिय। 

    3. Almost 4-5 टूल्स पर जरूर चेक करे जिनमे atleast 1 paid tool जरूर ह।  

    Plagiarism Tools का Advantages

    1. कंटेंट की इनफार्मेशन प्रोवाइड करने के साथ ये भी शो करता है की कंटेंट किन-किन websites से कॉपी किया गया है !

    2. कंटेंट आप अपने अकॉर्डिंग चेक कर सकते है जैसे कंटेंट direct टेक्स्ट बॉक्स, टेक्स्ट या document files upload करके !

    3. कुछ ही सेकंड में रिजल्ट्स शो कर देता है और कपैड कंटेंट को अंडरलाइन या highlight कर देता है और साथ ही ये भी शो कर देता है कंटेंट का कोण पार्ट किस वेबसाइट से कॉपी किया गया है जो बहुत ही अच्छा है कंटेंट unique रखने के लिए !

    4. इतनी म्हणत करके आपने unique content लिखा कही आपका कंटेंट कॉपी तो नहीं हो रहा है आप इन टूल्स की हेल्प से ये भी चेक कर सकते है !

    अब आप समझ गए होंगे की plagiarism tools की क्यों जरुरत होती है ये ब्लॉग को original बना देता है जो content कपि करने वाले को लिए बुरा संकेत है !

    Plagiarism Checker Tool कैसे काम करता है?

    Plagiarism checker tool आपने कंटेंट को read करने के बाद इस बात का पता लगता है के आपके शेयर किये गए कंटेंट को कभी पहले किसी ने publish किया है या नहीं. अगर आपके लिखे गए कंटेंट को पहले google Bot ने crawl नहीं किया होगा तो वो आपके कंटेंट को original मानेगा. लेकिन अगर आपके लिखे गए कंटेंट को कभी किसी ने शेयर किया होगा तो वो आपके कंटेंट को Plagiarism मन लेगा. इस टूल की हेल्प से आप पता लगा सकते है के आपके लिखे हुए कंटेंट ओरिजिनल है के नहीं. Plagiarism checker tool आपको फ्री और premium दोनों ही तरह के मिल जायेंगे. निचे कुछ recommended plagiarism tool के नाम दिए गए है जिसे आप उसे कर सकते है के आपके कंटेंट कितने यूनिक है.

    Plagiarism Checking Tools लिस्ट:

    1. SmallSEOTools (Free)

    2. Quetext (Free or Paid)

    3. Copyscape (Free or Paid)

    4. Grammarly (Paid)

    और भी बहुत से टूल्स आप इंटरनेट पर सर्च कर सकते है जो कंटेंट को चेक करने के लिए उसे किया जाता है और copied content फंड किया जाता है !

    ये भी जरूर पढ़िए

    फ्री ब्लॉग कैसे बनाये

    Off-Page SEO Kya Hai

    On-Page SEO Kya है

    Conclusion

    इस पोस्ट (plagiarism kya hai in hindi) से रिलेटेड आपका कोई question है या आप किन टूल्स को उसे करते है plagiarism check करने के लिए आप comment कर हमें जरूर बताये !